विज्ञान प्रसार (वि.प्र.) विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार के अधीन एक स्वायतशासी संस्था है। वि.प्र. का उद्देश्य बड़े पैमाने पर विज्ञान लोकप्रियकरण के कार्यों/ गतिविधियों को आरंभ करना, वैज्ञानिक एवं तर्कसंगत दृष्टिकोण को बढ़ावा देना और प्रचार-प्रसार करना तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संचार हेतु संसाधन-सह-सुविधा केंद्र के रूप में कार्य करना है।
विज्ञान प्रसार की स्थापना सन 1989 में की गई।
उद्देश्य:
  • वैज्ञानिक एवं तर्कसंगत दृष्टिकोण को बढ़ावा देना और प्रचार-प्रसार करना

  • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संचार हेतु संसाधन-सह-सुविधा केंद्र के रूप में कार्य करना

  • बड़े पैमाने पर विज्ञान लोकप्रियकरण के कार्यों/ गतिविधियों को आरंभ करना

  • विभिन्न भारतीय भाषाओं में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी लोकप्रियकरण पर विविध सॉफ्टवेयर (ऑडियो, विडियो, रेडियो, टीवी, प्रिंट, लर्निंग पैकेज, किट्स, खिलौने) का विकास, प्रसार और विपणन करना

  • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के लिए भिन्न-भिन्न मीडिया का प्रयोग करना

  • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के लिए नवीन/उभरती प्रौद्योगिकी का प्रयोग

विज्ञान प्रसार – संसाधन-सह-सुविधा केंद्र:
  • वि.प्र. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के लिए एक राष्ट्रीय संसाधन-सह-सुविधा केंद्र है

  • वि.प्र. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी हेतु नवीन एवं उभरती प्रौद्योगिकियों के अनुकूलन, उपयोग और काम में लाने के लिए संघर्षरत है

  • वि.प्र. द्वारा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी सॉफ्टवेयर के विकास, उत्पादन, प्रसार और विपणन पर विशेष बल दिया जाता है

  • वि.प्र. द्वारा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी लोकप्रियकरण/संचार हेतु एक देशव्यापी नेटवर्क का विकास को प्रमुखता

  • विकसित सॉफ्टवेयर के प्रयोग एवं प्रसार के लिए वि.प्र. प्रशिक्षण कर्यक्रमों का आयोजन करता है